Join WhatsApp Channel

Join Telegram Channel

नीलगाय भगाने की ये है जादुई दवा, वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई

वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई:— भारत कृषी प्रधान देश है। यहां किसान धान और गेहूं जैसी पारंपरिक फसलों के साथ-साथ दलहन, तिलहन और बागवानी की भी बड़े पैमाने पर खेती करते हैं। इससे किसानों को अच्छी आमदनी होती है. लेकिन कभी-कभी आवारा मवेशी और नीलगाय फसलों को नष्ट कर देते हैं। इससे किसानों को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ता है, वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई लेकिन अब किसानों को आवारा मवेशियों और नीलगाय से परेशान होने की जरूरत नहीं है. वैज्ञानिकों ने एक ऐसी तकनीक विकसित की है जिसकी मदद से फसलों को आवारा मवेशियों और नीलगायों से बचाया जा सकेगा।

वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई

नीलगाय से फसल को कैसे बचाएं. (सांकेतिक फोटो)


यह भी पड़ें..


नीलगाय से फसल को बचाने के लिए किसानों ने निकाला नया तरीका, आप भी जाने खेती को सुरक्षित बनाने के उपाय | Farmers have come up with a new way to save

वैज्ञानिक ने बताई नीम की पत्ती और गोमूत्र से तैयार करने की विधि/ऐसे बनाएं दवा

  • 05 लीटर गोमूत्र!
  • 01 किलो धतूरा!
  • 2.5 किलो नीम के पत्ते!
  • 01 किलो मदार के पत्ते!
  • 2.5 किलो बकाइन के पत्ते!
  • 250 ग्राम लाल मिर्च के बीज!
  • 01 किलो नीलगाय का गोबर!
  • 250 ग्राम लहसुन को एक साथ मिला!
  • 250 ग्राम सुर्ती की जरूरत पड़ेगी पत्तियां!

वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई किसी मिट्टी के बर्तन में रखकर 25 दिनों के लिए रख दें। महत्वपूर्ण बात यह है कि संरक्षण के लिए मिट्टी के बर्तन का मुंह ठीक से बंद कर दें, ताकि हवा उसमें प्रवेश न कर सके। साथ ही उस कंटेनर का 1.3 हिस्सा खाली रहना चाहिए. क्योंकि विखंडन के बाद कार्बनिक गैस बनने से बर्तन फट सकता है।

हर्बल घोल की गंध से खेतों के पास नहीं फटकेंगी नीलगाय , ये 10 तरीके भी आजमा सकते हैं किसान

25 दिन में तैयार हो जाएगा/वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई

  1. वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई!
  2. 25 दिनों के बाद आप मिट्टी का मुंह खोलें और मिश्रण को दूसरे बर्तन में निकाल लें!
  3. 25 दिनों तक सड़ने के बाद यह मिश्रण गंधयुक्त जैविक औषधि बन जाएगा!
  4. इसके बाद 50 फीसदी दवा को 100 लीटर पानी में मिला लें!
  5. फिर 250 ग्राम सर्फ मिलाकर प्रति बीघे के हिसाब से छिड़काव करें!
  6. इसकी गंध से कोई भी जानवर आपके खेत के पास नहीं आएगा!

यह भी पड़ें… 


खेत में नीलगाय से परेशान हैं तो अपनाएं ये तरीका, फसल नहीं होगी बर्बाद Good news for farmers, Nilgai will not be able to spoil the crop now, scientists have found a

इन फसलों पर करें छिड़काव/वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई

वैज्ञानिक ने बताया नीम पत्तों और गौ मूत्र नीलगाय से बनाई दवाई वैज्ञानिकों का कहना है कि दवा जितनी पुरानी होगी, उतनी ही ज्यादा असरदार होगी। ऐसे में किसान दलहन, गेहूं, गन्ना और मक्का समेत सभी तरह की फसलों पर स्प्रे कर सकते हैं! आप चाहें तो इसे सब्जियों पर भी स्प्रे कर सकते हैं. किसानों को इस दवा को हमेशा ढककर रखना चाहिए। क्योंकि दवा में जितनी अधिक गंध होगी, वह उतनी ही अधिक प्रभावी होगी।


Important Links

Join WhatsApp Group Now
Join Telegram Channel Now

Latest Education News Update 

Latest Jobs Update
Latest Exams Syllabus
Latest Admit Card
Latest Results
Latest Sarkari Yojana

Leave a Comment

फ्री में बोरवेल कैसे करवाए यहां देखें पूरी योजना ऐसे करें आवेदन